ब्रेकिंग न्यूज़
होम > न्यूज़ > नेशनल न्यूज़ > आर्टिकल > केरल में मानसून दस्तक देने के लिए तैयार, जानें महाराष्ट्र में कब होगी झमाझम बारिश

केरल में मानसून दस्तक देने के लिए तैयार, जानें महाराष्ट्र में कब होगी झमाझम बारिश

Updated on: 30 May, 2024 10:43 AM IST | Mumbai
Hindi Mid-day Online Correspondent | hmddigital@mid-day.com

मानसून सीजन में पूरे देश में सामान्य से अधिक बारिश होने की उम्मीद है, जो देश में चल रही भीषण गर्मी से राहत दिलाने के लिए काफी जरूरी है.

Representation Pic

Representation Pic

Weather update: मुंबई में भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के निदेशक सुनील कांबले ने कहा कि केरल पहुंचने के बाद मानसून को महाराष्ट्र को कवर करने में आठ से दस दिन लगेंगे. अगले 24 घंटों में मानसून के केरल पहुंचने की उम्मीद है. कांबले आगे कहा कि `अगर आप मुंबई की बात करें, तो मुंबई का तापमान 35-36 डिग्री सेंटीग्रेड है. और गर्मियों के मौसम के लिए, ये काफी सामान्य तापमान हैं, लेकिन उच्च आर्द्रता के कारण, जैसे कि 80% से 90% आर्द्रता है. इसलिए 35 प्रतिशत-36 प्रतिशत सेंटीग्रेड पर भी, हमें 40 डिग्री का अहसास हो रहा है. और अगर आप महाराष्ट्र और उसके आसपास देखें, तो तापमान 38 प्रतिशत और 40 प्रतिशत सेंटीग्रेड के बीच है.`

कांबले ने आगे कहा, `केरल में मानसून के आगमन की सामान्य तिथि 1 जून है. लेकिन हम मानसून के आगे बढ़ने की उम्मीद कर रहे हैं और 24 घंटे के भीतर मानसून के केरल पहुंचने की उम्मीद कर रहे हैं. केरल में मानसून के आगमन के बाद, महाराष्ट्र, खासकर मुंबई को कवर करने में आठ से दस दिन लगते हैं.` उन्होंने कहा कि आईएमडी ने पहले ही एक लंबी अवधि का पूर्वानुमान जारी कर दिया है. इस सीजन में हमें सामान्य से अधिक बारिश होगी।`


मिली जानकारी के अनुसार, साल 2023 में, मानसून के मौसम (जून-सितंबर) के दौरान पूरे देश में बारिश, इसकी लंबी अवधि के औसत का 94 प्रतिशत थी. भारतीय मुख्य भूमि पर दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने का संकेत केरल में मानसून के आगमन से मिलता है और यह गर्म और शुष्क मौसम से बरसात के मौसम में संक्रमण को दर्शाने वाला एक महत्वपूर्ण संकेतक है. जैसे-जैसे मानसून उत्तर की ओर बढ़ता है, उन क्षेत्रों में चिलचिलाती गर्मी से राहत मिलती है, जहां यह पहुंचता है. ये बारिश भारतीय कृषि अर्थव्यवस्था (खासकर खरीफ फसलों के लिए) के लिए महत्वपूर्ण है. भारत में तीन फसल मौसम हैं - गर्मी, खरीफ और रबी.


सोमवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में आईएमडी प्रमुख ने कहा कि इस मानसून सीजन में पूरे देश में सामान्य से अधिक बारिश होने की उम्मीद है, जो देश में चल रही भीषण गर्मी से राहत दिलाने के लिए काफी जरूरी है. आईएमडी के मौसम विज्ञान महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने कहा था, `पूरे देश में दक्षिण-पश्चिम मानसून की बारिश 4 प्रतिशत की मॉडल त्रुटि के साथ लंबी अवधि के औसत का 106 प्रतिशत होने की संभावना है. इस प्रकार, पूरे देश में सामान्य से अधिक बारिश होने की संभावना है.`

यह पूर्वानुमान इस मानसून में सामान्य से अधिक बारिश की भविष्यवाणी के बाद है, जो अगस्त और सितंबर के बीच अनुकूल ला नीना स्थितियों पर आधारित है. मौसम कार्यालय ने कहा कि 30 मई से पूरे भारत में गर्मी कम होने की संभावना है, अगले तीन दिनों में उत्तर-पश्चिम भारत में भीषण गर्मी की चेतावनी दी गई है.


अन्य आर्टिकल

फोटो गेलरी

रिलेटेड वीडियो

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK