ब्रेकिंग न्यूज़
होम > मुंबई > मुंबई न्यूज़ > आर्टिकल > `लाइफगार्ड होता तो दो बच्चे नहीं मरते...` मृतक यश कागड़ा की मां ने किया खुलासा

`लाइफगार्ड होता तो दो बच्चे नहीं मरते...` मृतक यश कागड़ा की मां ने किया खुलासा

Updated on: 12 April, 2024 02:16 PM IST | mumbai
Apoorva Agashe | mailbag@mid-day.com

पिछले महीने माहिम समुद्र तट पर समुद्र में डूबने से अपने बेटे यश कागड़ा को खो दिया था.

Pic/Anurag Ahire

Pic/Anurag Ahire

Mahim Beach: 40 वर्षीय संगीता कागड़ा ने अपना दर्द जाहीर करते हुए कहा, ` मेरा बच्चा तो गया, अब किसी और का बच्चा ना जाये. अगर लाइफगार्ड होता तो आज दो बच्चों की जान बच जाती.` बता दें, पिछले महीने माहिम समुद्र तट पर समुद्र में डूबने से अपने बेटे यश कागड़ा को खो दिया था. यश और उसका दोस्त 15 वर्षीय हर्ष किंजले 26 मार्च को डूब गए. मृतकों और एक जीवित बचे व्यक्ति के परिवारों ने समुद्र तट पर साइनबोर्ड लगाने और बचाव दल की तैनाती की मांग की और यह भी आरोप लगाया कि पुलिस लापरवाही बरत रही है.

उस दिन जीवित बचे एकमात्र 17 वर्षीय ओम लोट ने कहा, `हम वहां तैरने के लिए गए थे। हर्ष, यश और मैं समुद्र में उतरे और एक बड़ी लहर की चपेट में आ गए. हर्ष और यश पानी में गायब हो गये और मुझे किनारे खींच लिया गया. मैंने मदद के लिए ऑन-ड्यूटी पुलिस अधिकारी को बुलाया. वह नहीं आया लेकिन उस मछुआरे पर हमला कर दिया जो हमारी मदद करने की कोशिश कर रहा था. मैंने मजबूरी में अपने परिवार को फोन किया. हर्ष और मुझे हमारे परिवार हिंदुजा अस्पताल ले गए.`


कागादास के रिश्तेदार सचिन चव्हाण के अनुसार, जब वह मौके पर पहुंचे तो वहां कोई लाइफगार्ड, तट रक्षक या पुलिस नहीं थी और उन्हें खुद ही हर्ष को बाहर निकालना पड़ा. चव्हाण ने आगे कहा, `मौके पर कोई अधिकारी मौजूद नहीं था. हमारे इलाके के सभी आदमी लड़कों को ढूंढने के लिए इकट्ठे हो गये थे. हम ओम और हर्ष को अस्पताल ले गए. पुलिस ने फायर ब्रिगेड और बचाव दल को देर से बुलाया. 7.30 बजे तक बचावकर्मियों ने कहा कि वे तलाश जारी नहीं रख सकते. अगले दिन यश का शव उसी स्थान पर मिला जहां वह नहा रहा था.`


संगीता ने डबडबाती आंखों से कहा कि अगर समुद्र तट पर साइनबोर्ड लगे होते तो बच्चे जिंदा होते. अगर साइनबोर्ड होते तो बच्चे समुद्र में नहीं जाते. मैं मांग करता हूं कि अधिकारियों ने इसके बारे में सोचना चाहिए और पुलिस को सहयोग करना चाहिए. मदद करने की कोशिश करने वालों को नहीं पीटना चाहिए. घटना के बारे में पूछे जाने पर जोन 5 के डीसीपी तेजस्वी सातपुते ने कहा, `हम ऐसी घटनाओं से अनजान हैं, मैं मृतक के परिवार से अनुरोध करता हूं कि वह हमसे संपर्क करें, और अगर ऐसी कोई घटना हुई है तो हम अधिकारी के खिलाफ उचित कार्रवाई करेंगे.`


अन्य आर्टिकल

फोटो गेलरी

रिलेटेड वीडियो

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK